समर्थक

Google+ Followers

मित्रों!
आज से आप अपने गीत
"सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिए Roopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। आपका मेल मिलते ही आपको सृजन मंच ऑनलाइन के लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

शुक्रवार, 27 सितंबर 2013

"एक मुक्तक" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


भारत की महानता कानही है अतीत याद,
वोट माँगने कोनेता आया बिनबुलाया है।
देश का कहाँ है ध्यानहोता नित्य सुरापान,
जातिधर्मप्रान्त जैसेमुद्दों को भुनाया है।
युवराज-सन्त चल पड़ेगली-हाट में,
निर्वाचन के दौर नेये दिन भी दिखाया है।

5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब ,,, पर मुक्तक तो चार पंक्तियों का होता है....

    उत्तर देंहटाएं
  2. भारत की महानता का, नही है अतीत याद,
    वोट माँगने को, नेता आया बिनबुलाया है।
    देश का कहाँ है ध्यान, होता नित्य सुरापान,
    जाति, धर्म, प्रान्त जैसे, मुद्दों को भुनाया है।
    युवराज-सन्त चल पड़े, गली-हाट में,
    निर्वाचन के दौर ने, ये दिन भी दिखाया है।
    घूमता है एक बकरा नगर- नगर, प्रांत- प्रांत मिमियाता हुआ दिग्भ्रान्त बोल देता है एक आदि शब्द कभी काम के

    भारत की महानता का, नही है अतीत याद,
    वोट माँगने को, नेता आया बिनबुलाया है।
    देश का कहाँ है ध्यान, होता नित्य सुरापान,
    जाति, धर्म, प्रान्त जैसे, मुद्दों को भुनाया है।
    युवराज-सन्त चल पड़े, गली-हाट में,
    निर्वाचन के दौर ने, ये दिन भी दिखाया है।

    घूमता है एक बकरा नगर- नगर, प्रांत- प्रांत मिमियाता हुआ दिग्भ्रान्त बोल देता है एक आदि शब्द कभी काम के

    भारत की महानता का, नही है अतीत याद,
    वोट माँगने को, नेता आया बिनबुलाया है।
    देश का कहाँ है ध्यान, होता नित्य सुरापान,
    जाति, धर्म, प्रान्त जैसे, मुद्दों को भुनाया है।
    युवराज-सन्त चल पड़े, गली-हाट में,
    निर्वाचन के दौर ने, ये दिन भी दिखाया है।
    घूमता है एक बकरा नगर- नगर, प्रांत- प्रांत मिमियाता हुआ दिग्भ्रान्त बोल देता है एक आदि शब्द कभी काम के

    भारत की महानता का, नही है अतीत याद,
    वोट माँगने को, नेता आया बिनबुलाया है।
    देश का कहाँ है ध्यान, होता नित्य सुरापान,
    जाति, धर्म, प्रान्त जैसे, मुद्दों को भुनाया है।
    युवराज-सन्त चल पड़े, गली-हाट में,
    निर्वाचन के दौर ने, ये दिन भी दिखाया है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर मुक्तक के लिये बधाई. दो पंक्तियाँ और हो जायें तो यह घनाक्षरी के करीब हो सकता है., सादर........

    उत्तर देंहटाएं